OctaFX | OctaFX Forex Broker
साईन इन
ओपन अकाउंट
Back

मुद्रा जोड़ी कोरिलेशंस – फोरेक्स ट्रेडिंग

विभिन्न मुद्रा जोड़ियों के बीच मूल्य संबंधों का ज्ञान हमें हमारी फोरेक्स ट्रेडिंग रणनीतियों को बेहतर रूप से विकसित करने की गहरी अंतर्दृष्टि प्रदान करता है | मुद्रा जोड़ी संबंधों का ज्ञान जोखिमों को कम करने, हैजिंग को बेहतर करने और ट्रेडिंग इंस्ट्रूमेंट में विविधता उत्पन्न करने में मददगार साबित हो सकता है | इस लेख में हम अंतर-बाजारीय संबंधों का इस्तेमाल करके फोरेक्स ट्रेडिंग से आपका परिचय कराएँगे |

फोरेक्स में मुद्रा जोड़ी कोरिलेशंस का अभिप्राय

कोरिलेशन दो ट्रेडिंग परिसंपत्तियों के बीच के संबंधों का सांखिकीय माप है | मुद्रा कोरिलेशन एक हद तक किसी तय समय सीमा के अंतर्गत दो मुद्रा जोड़ियों के समान, विपरीत या क्रमरहित दिशाओं में बढ़ने को दर्शाता है |

Forex correlation

पिछले सांखिकीय आंकड़ों द्वारा दो परिसंपत्तियों के संबंधों का विश्लेषण करने से हमें एक अनुमानित आंकड़ा प्राप्त हो सकता है | यह फोरेक्स ट्रेडिंग में बेहतर अवसर प्रदान करके आपके जोखिमों का प्रबंधन कर सकता है | कोरिलेशन आमतौर पर डेसीमल अंकों के पैमाने, -1 से +1 पर मापा जाता है जिससे आपको एक आंकड़ा प्राप्त होता है, जिसे कोरिलेशन गुणांक कहते हैं |

  • +1 कोरिलेशन यह दर्शाता है कि दो मुद्रा जोडियाँ उस समय में 100 प्रतिशत एक ही दिशा में आगे बढेंगी | यह एक परिपूर्ण धनात्मक कोरिलेशन है | EUR/USD और GBP/USD के बीच का कोरिलेशन इसका एक सटीक उदाहरण है | अगर EUR/USD ऊपर बढ़ रहा है तो GBP/USD भी ऊपर ही बढ़ रहा होगा |
  • -1 कोरिलेशन यह दर्शाता है कि दो मुद्रा जोडियाँ उस समय में 100 प्रतिशत विपरीत दिशा में आगे बढेंगी | EUR/USD और USD/CHF के बीच में परिपूर्ण ऋणात्मक कोरिलेशन है | अगर EUR/USD ऊपर बढ़ रहा है, तो USD/CHF नीचे गिर रहा होगा |
  • 0 कोरिलेशन यह दर्शाता है कि मुद्रा जोड़ियों के बीच संबंध क्रमरहित हैं, जिसका मतलब है कि उनके बीच में कोई कड़ी नहीं है |

स्वाभाविक तौर पर अगर धनात्मक और ऋणात्मक कोरिलेशन मज़बूत है, तो विश्लेषण के बाद भविष्य में मिलने वाली संख्या अधिक होगी | तकनीकी विश्लेषणों में दीर्धकालीन समय रेखा का उपयोग अधिक स्पष्ट नतीज़े प्रदान करता है | 1 मिनट की समय सीमा के कोरिलेशन का मूल्य कम होता है, वहीँ मासिक व सालाना आंकड़े अधिक विश्वसनीय अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं |

फोरेक्स ट्रेडिंग पर मुद्रा कोरिलेशंस का प्रभाव

  • ये उच्च सांखिकीय संभावित फोरेक्स ट्रेडिंग का आधार बन सकते हैं |
  • ये आपको समझा सकते हैं कि आप अपने फोरेक्स ट्रेडिंग खाते में कितने जोखिमों के अधीन हैं | उदाहरण के लिए, अगर आपने मज़बूत धनात्मक कोरिलेशन वाली कई मुद्रा जोड़ियाँ खरीदी हैं, तो आप अधिक दिशात्मक जोखिमों के अधीन हो सकते हैं |
  • आप ऐसी स्थितियों से बच सकते हैं जो एक दूसरे को रद्द कर देती हैं | EUR/USD और USD/CHF का बेहद मज़बूत ऋणात्मक कोरिलेशन होता है | अगर आपका किसी दिशा के प्रति झुकाव है, तो EUR/USD और USD/CHF को खरीदना दोनों के ही बढ़ने की गति का प्रतिकार कर सकता है |
  • कोरिलेशंस का ज्ञान आपको फोरेक्स बाज़ार में अपने निवेश को हैज या विविध करने में सहायता प्रदान करता है |
  • अगर आपका किसी मुद्रा की तरफ दिशात्मक झुकाव है तो आप विविधता की दृष्टि से दो मज़बूत धनात्मक कोरिलेटेड जोड़ों का उपयोग करते हुए अपने जोखिम को परिवर्तित कर सकते हैं |
  • अगर आप किसी पोजीशन (न्यूनतम नुक्सान होने के जोखिम के साथ) को हैज करना चाह रहे हैं, तो आप ऋणात्मक कोरिलेशन जोड़ी में एक पोजीशन स्थापित कर सकते हैं | उदाहरण के लिए, अगर आप EUR/USD को दीर्धकालीन अवधि के लिए खरीदते हैं और यह पोजीशन आपकी आशाओं के विपरीत जाने लगती है, तो आप एक ऋणात्मक कोरिलेशन जोड़ी, जैसे कि USD/CHF को खरीद कर इस पोजीशन को हैज कर सकते हैं |

कोरिलेशन पर आधारित फोरेक्स ट्रेडिंग रणनीतियां

  • जब दो जोड़ियाँ अत्यधिक कोरिलेटेड होती हैं, तो एक जोड़ी दूसरी जोड़ी की कीमतों की चाल के लिए पथ प्रदर्शक इंडिकेटर का कार्य कर सकती है | अगर आप धनात्मक कोरिलेटेड जोड़ियों में से एक की चाल में तेज़ गति देखते हैं, तो आप दूसरी जोड़ी की चाल में संभावित बदलाव की आशा कर सकते हैं |

Sharp move lagging correlation

  • अन्य फोरेक्स इंडीकेटर्स की तुलना में कोरिलेशन, विश्लेषण की दृष्टि से अधिक शक्तिशाली फोरेक्स टूल साबित हो सकता है | उदाहरण के लिए, अगर एक जोड़ी सपोर्ट और रेजिस्टेंस के प्रमुख तकनीकी स्तर के ऊपर या नीचे कमज़ोर पड़ जाती है, तो इनके पास वाली धनात्मक कोरिलेटेड जोड़ी जोखिमों के उच्च स्तर पर होती है |
  • मूल्य परिवर्तन | अगर आप दो ऋणात्मक कोरिलेटेड जोड़ियों को देखें और किसी एक जोड़ी में महत्वपूर्ण ऊपरी मूल्य परिवर्तन देखने को मिले, तो आप दूसरी जोड़ी में भी संभावित निचला मूल्य परिवर्तन देखने की उम्मीद कर सकते हैं |
  • मुद्रा कोरिलेशन का उपयोग करते हुए गैर-दिशात्मक मध्यस्थता शैली रणनीति का प्रयोग | इस फोरेक्स रणनीति में आप दो अत्यधिक कोरिलेटेड मुद्रा जोड़ियों के बीच एक असामान्य झुकाव का इंतज़ार करते हैं और फिर इस आशा में कि वे दोनों दोबारा से एक ही दिशा में बढ़ने लगेंगी, आप एक मुद्रा जोड़ी को खरीद कर दूसरी जोड़ी को बेच देते हैं |

Abnormal divergence

फोरेक्स में अत्यधिक कोरिलेटेड मुद्रा जोड़ियाँ

मज़बूत धनात्मक कोरिलेशंस के उदाहरण  
(वार्षिक समय सीमा के अंतर्गत):

EUR/USD और GBP/USD (+ 0.89)

EUR/USD और AUD/USD (+ 0.81)  

EUR/USD और EUR/CHF (+ 0.93)  

AUD/USD और गोल्ड (+ 0.75)

मज़बूत ऋणात्मक कोरिलेशंस के उदाहरण
(वार्षिक समय सीमा के अंतर्गत):

EUR/USD  और USD/CHF (-0.85)

USD/CAD और AUD/USD (- 0.88)

AUD/NZD और NZD/SGD (- 0.78)

USD/JPY और गोल्ड (- 0.78)

कमोडिटीज़ जो मुद्राओं के साथ कोरिलेटेड हैं

  • कैनेडियन डॉलर और कच्चे तेल में धनात्मक कोरिलेशन है क्योंकि कनाडा कच्चे तेल का प्रमुख उत्पादक और निर्यातक है |
  • इसी प्रकार ऑस्ट्रेलियाई डॉलर और गोल्ड में भी धनात्मक कोरिलेशन है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया प्रमुख गोल्ड उत्पादक और निर्यातक है |

Positive correlation

  • गोल्ड और जापानी येन, दोनों ही अस्थिरता के दौर में सुरक्षित आश्रय माने जाते हैं और इनमें भी धनात्मक कोरिलेशन है |
  • इसी दौरान गोल्ड और अमेरिकी डॉलर में ऋणात्मक कोरिलेशंस देखने को मिलता है | बढ़ती मुद्रास्फीति के दौर में जब अमेरिकी डॉलर अपना मूल्य खोना शुरू करता है, तब निवेशक गोल्ड में निवेश करना शुरू कर देते हैं |

Negative correlation

फोरेक्स में मुद्रा कोरिलेशन बदलाव

ध्यान रखें कि विभिन्न आर्थिक और राजनीतिक कारणों के चलते मुद्रा कोरिलेशंस समय के साथ निरंतर बदलते रहते हैं | इनमें अक्सर शामिल होती हैं बिखरती मौद्रिक नीतियाँ, कमोडिटी की कीमतें और केंद्रीय बैंक नीतियों में आये बदलाव इत्यादि | भविष्य में मज़बूत कोरिलेशन बने रहना निश्चित नहीं होता और उस समय कोरिलेशन में बदलाव अति महत्वपूर्ण बन जाता है | हम आपको सलाह देते हैं कि आप बेहतर दृष्टिकोण के लिए दीर्धकालीन कोरिलेशन की जांच अवश्य करें |

आप मुद्रा कोरिलेशंस फोरेक्स ट्रेडिंग अवसरों का फ़ायदा उठा सकते हैं क्योंकि ये उच्च अनुमानित ट्रेडिंग रणनीतियाँ विकसित करने में प्रभावी टूल्स साबित होते हैं | ये आपकी जोख़िम प्रबंधन में भी सहायता कर सकते हैं, खासकर तब, जब आप कोरिलेशन गुणांक पर दैनिक, साप्ताहिक, मासिक और वार्षिक समय सीमाओं में नज़र रखते हैं |

Livechat शुरू करें