साईन इन
साईन इन
Back

फ़िबोनाकि ट्रेडिंग रणनीति – रिट्रेसमैन्ट

फ़िबोनाकि नंबर अनुक्रम के माध्यम से उत्पन्न किये गए टूल्स फोरेक्स तकनीकी विश्लेषण के क्षेत्र में प्रभावी रूप से कार्य करते हैं | इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि जिस जगह पर कीमतों के विपरीत दिशा में जाने की सम्भावना पैदा होती है, वहां पर यह टूल्स हमें प्रमुख परिवर्तन बिंदु दर्शा सकते हैं | फोरेक्स फ़िबोनाकि स्तरों का उपयोग अधिकतर खुदरा फोरेक्स ट्रेडर्स व प्रमुख बैंकों और हैज फंड्स के ट्रेडर्स द्वारा किया जाता है | यह लेख हमें ट्रेडिंग में फोरेक्स फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट के उपयोग की जानकारी प्रदान करता है | हम इन संख्याओं की उत्पत्ति के कारणों को खोजेंगे और दिखायेंगे कि आप किस प्रकार से फोरेक्स फ़िबोनाकि स्तरों को अपने चार्ट पर लागू कर सकते हैं |

फ़िबोनाकि कौन थे ?लिबेर अबाकी किताब का परिचय

लियोनार्दो पिसानो का जन्म साल 1170 के आसपास पीसा शहर में हुआ था | वे अपने प्रचलित नाम फ़िबोनाकि के नाम से जाने जाते थे | उनकी शिक्षा उत्तरी अफ्रीका में हुई, वे देश विदेश में घूमें और उन्होंने विभिन्न संख्यात्मक प्रणालियों और गणन विधियों का अध्ययन किया | एक समय पर रोमन अंक प्रणाली सबसे लोकप्रिय हुआ करती थी, लेकिन फ़िबोनाकि ने देश विदेशों में उपयोग होने वाली गणितीय प्रणालियों के अनगिनत फायदों को स्वीकृति दी | उन्होंने नयी प्रणाली पर कार्य आरम्भ किया और उसे अपनी लोकप्रिय किताब ‘लिबेर अबाकी’ में साल 1202 में प्रस्तुत किया | उन्होंने मोडस इंडोरम (भारतीयों की प्रणाली) की शुरुआत की, जिसे आज के समय में हिन्दू-अरबी संख्या प्रणाली के रूप में जाना जाता है |

इसने यूरोपीय विचार-प्रक्रिया पर गहरा प्रभाव छोड़ा क्योंकि पुरानी रोमन प्रणाली की तुलना में अरबी अंकों के साथ अंकगणित के कार्य करना कुशल व तेज़ हो गया था | इस किताब की व्यापक रूप से प्रतिलिपियाँ बनायीं गयीं और इसने धार्मिक रोमन सम्राट फ्रेडरिक द्वितीय का ध्यान आकर्षित किया, जिन्होंने फ़िबोनाकि को उनकी सेवाओं के सम्मान में वेतन देने का फैसला किया |

किताब में तीन अनुभाग हैं | पहला अनुभाग स्थितिगत संकेत पद्धति और संख्या 0 से 9 पर आधारित है | उन्होंने अंक प्रणाली का क्रियात्मक उपयोग दर्शाते हुए और इसे व्यापारिक किताब-संरक्षण, ब्याज़ गणना, मुद्रा लेन-देन और अन्य विषयों में उपयोग किया है | दूसरा अनुभाग व्यापारियों की विभिन्न कठिनाइयों को दर्शाता है, जिसमें वस्तुओं की कीमत, लाभ की गणना करना और मुद्रा परिवर्तन शामिल हैं | लेखक मुख्य रूप से फ़िबोनाकि संख्याओं और फ़िबोनाकि अनुक्रम के लिए अधिक लोकप्रिय हैं, जिनका उल्लेख तीसरे अनुभाग में किया गया है |

फ़िबोनाकि अनुक्रम संख्याओं की एक ऐसी श्रृंखला है जिसमें प्रत्येक संख्या पिछली दो संख्याओं के योग के बराबर होती है | जैसे कि 0, 1, 1, 2, 3, 5, 8, 13, 21, 34, 55, 89, 144...और फिर यह क्रम अनंत तक चलता रहता है |

यह अनुक्रम सीधे तौर पर ‘गोल्डन अनुपात’ को दर्शाता है, क्योंकि अगर आप आगे बढती हुई किन्ही दो फ़िबोनाकि संख्याओं को देखेंगे तो उनका अनुपात 1.618 के बेहद करीब रहता है | इसलिए इस आंकड़े 1.618 को ‘फाई’ या गोल्डन अनुपात कहा जाता है |

गोल्डन अनुपात प्रकृति, वास्तुकला, ललित कला, जीव विज्ञान और यहाँ तक कि वित्तीय फोरेक्स बाज़ारों में भी देखने को मिल जाता है | गोल्डन अनुपात के उदाहरण आपको ग्रेट गीज़ा पिरामिड, लियोनार्डो दा विन्ची की मोनालिसा चित्रकला, नौटिलस शंखों, चक्राकार आकाशगंगाओं, सूरजमुखी, पेड़ की शाखाओं, मधुमक्खी के छत्ते और मानवीय चेहरों में देखने को मिल जायेंगे |

बाज़ारों में फोरेक्स फ़िबोनाकि का परिचय

आपको वित्तीय बाज़ारों में फोरेक्स फ़िबोनाकि के 61.8%, 38.2% और 23.6% स्तरों का सबसे अधिक उपयोग देखने को मिल जायेगा | ये संख्याएं सीधे तौर से फ़िबोनाकि अनुक्रम से नहीं ली गयी है बल्कि इन्हें अनुक्रम में संख्यायों के बीच के गणितीय संबंधों के द्वारा प्राप्त किया गया है |

  • 61.8% अनुपात की बुनियाद हमें फ़िबोनाकि अनुक्रम में पिछली संख्या को उसके बाद वाली संख्या से भाग करने पर मिलती है | उदाहरण के लिए: 34/55 = 0.6181
  • 38.2% अनुपात हमें फ़िबोनाकि अनुक्रम में पिछली संख्या को उसके बाद वाली दूसरी संख्या से भाग करने पर मिलता है | उदाहरण के लिए: 34/89 = 0.3820
  • 23.6% अनुपात हमें फ़िबोनाकि अनुक्रम में पिछली संख्या को उसके बाद वाली तीसरी संख्या से भाग करने पर मिलता है | उदाहरण के लिए: 34/144 = 0.2361

MT4 पर फोरेक्स फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट का रेखांकन

फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट के रेखांकन के लिए आपको स्क्रीन के ऊपरी बाईं तरफ बने टूलबार पर फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट आईकन को क्लिक करना होता है |

Fibonacci Retracements - Icon

  • नीचे जाने की स्थिति में स्विंग हाई (हाल की उच्चतम बढ़त) पर डबल क्लिक करें और स्विंग लो (हाल की न्यूनतम गिरावट) तक खींचे | यहाँ से आप चार्ट पर 23.6%, 38.2%, 50% और 61.8% के स्तरों की ग्रिड देख पाएंगे | यह उन स्तरों को दर्शाता है जहाँ पर कीमतों को रेजिस्टेंस की स्थिति प्राप्त हो सकती है | दूसरे शब्दों में कहें तो यह वह स्थिति है जहाँ पर कीमतें उछाल लेकर विपरीत दिशा में नीचे गिर सकती हैं |

Fibonacci Retracements - Down Move Resistance Levels

  • ऊपर जाने की स्थिति में स्विंग लो पर क्लिक करते हुए उसे स्विंग हाई तक खींचें | यहाँ से आप चार्ट पर 23.6%, 38.2%, 50% और 61.8% के स्तरों की ग्रिड देख पाएंगे | यह उन स्तरों को दर्शाता है जहाँ पर कीमतों को सपोर्ट की स्थिति प्राप्त हो सकती है | दूसरे शब्दों में कहें तो यह वह स्थिति है जहाँ पर कीमतें उछाल लेकर विपरीत दिशा में ऊपर की तरफ बढ़ सकती हैं |

Fibonacci Retracements - Up Move Resistance Levels

फोरेक्स ट्रेडिंग के लिए फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट रणनीति

Fibonacci Retracements - Zone of Market Retracements

फोरेक्स फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट स्तरों का चित्रण चार्ट पर उच्च और निम्न बिन्दुओं के उपयोग और ग्रिड में क्षितिज के समान्तर दिशा में चलते हुए मुख्य फ़िबोनाकि अनुपातों 23.6%, 38.2% और 61.8% के अंकन के द्वारा किया जाता है | यह क्षैतिज रेखाएं संभावित परिवर्तन के स्तरों को दर्शाती हैं | फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट यह निर्धारित कर सकती है कि आपको बाज़ारों में उतरने पर किस जगह आर्डर दर्ज कराना है, जिससे आप आसानी से आर्डर पर स्टॉप-लॉस लगा सकते हैं और मुनाफ़ा अर्जित कर सकते हैं | वे सटीक तरीके से सपोर्ट और रेजिस्टेंस के स्तरों का पता लगा सकते हैं |

आम तौर पर रिट्रेसमैन्ट की गणना बाज़ार के उतार-चढ़ाव या फिर किसी विशेष कीमत के स्तर में अचानक आयी रूकावट के आधार पर की जाती है | सबसे लोकप्रिय फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट स्तर हैं 61.8% और 38.2% | शुरूआती बड़ी कीमतों की तेज़ी के सामान्य रुझानो पर वापस लौटने से पहले इन्हें उन कीमतों के स्तर पर एक चार्ट में क्षैतिज रेखाओं के चित्रण के माध्यम से उपयोग किया जाता है, जो बाज़ार रिट्रेसमैन्ट का क्षेत्र निर्धारित करती हैं | ये काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं जब एक बाज़ार प्रमुख मूल्य सपोर्ट और रेजिस्टेंस स्तर तक पहुँच चुका हो |

50% रिट्रेसमैन्ट स्तर को सामान्य रूप से फ़िबोनाकि स्तरों की ग्रिड में रखा जाता है | यह किसी फ़िबोनाकि संख्या पर आधारित नहीं है लेकिन इसे एक महत्वपूर्ण परिवर्तन बिंदु के रूप में स्वीकार किया जाता है |

फोरेक्स फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट अक्सर महत्वपूर्ण सपोर्ट और रेजिस्टेंस स्तरों का निर्माण करते हैं और बेहद सटीक साबित होते हैं | आप अपनी फोरेक्स ट्रेडिंग रणनीति के बेहतर कार्यान्वन के लिए विभिन्न बाज़ारों और समय सीमाओं में फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट स्तरों के साथ प्रयोग कर सकते हैं |

आपके लिए हमने एक लेख और तैयार किया है जो आपको और अधिक रणनीतियां प्रदान करता है जिन्हें आप फोरेक्स फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट के साथ उपयोग कर सकते हैं | आप यह भी जान पाएंगे कि आप फ़िबोनाकि रिट्रेसमैन्ट को इंडीकेटर्स के साथ किस प्रकार संयोजित कर सकते हैं, आपके लिए बाज़ार में उतरने का कौन सा समय सही है और यह भी कि विभिन्न समय सीमाओं में किसी रुझान को किस प्रकार निर्धारित करें | अधिक जानकारी हासिल करने के लिए इस लिंक पर जाएँ |

Livechat शुरू करें