साईन इन
साईन इन
Back

समाचारों में किस प्रकार फोरेक्स ट्रेड करें

इस लेख में हम फॉरेक्स मार्केट के प्रमुख मूल्य संचालक को कवर करेंगे: आर्थिक समाचार विज्ञप्तियां। प्रमुख बैंक, हैज फंड्स और खुदरा ट्रेडर्स सभी अपने ट्रेडिंग से सम्बंधित निर्णय लेने के लिए समाचारों पर निर्भर रहते हैं |

समाचारों पर फोरेक्स ट्रेड क्यों करें ?

दुनियाभर के देश नियमित रूप से अपने श्रम बाज़ार, सकल घरेलु उत्पाद (GDP), खुदरा बिक्री और मुद्रास्फीति से सम्बंधित आंकड़े प्रकाशित करते रहते हैं |

यह समाचार हमें देशों की अर्थव्यवस्था के प्रदर्शन की जानकारी प्रदान करते हैं और इनसे मुद्रा की कीमतों पर भी असरदार प्रभाव पड़ता है | किसी भी देश के लिए मुद्रा उसके आत्मविश्वास का प्रतीक होती है | समाचार विज्ञप्तियां फोरेक्स बाज़ारों में उच्च स्तर की अस्थिरता उत्पन्न कर देती हैं जिनसे फोरेक्स ट्रेडर्स के लिए ढेरों अवसर पैदा हो जाते हैं |

फोरेक्स ट्रेडिंग के लिए अति महत्वपूर्ण समाचार विज्ञप्तियां

आर्थिक समाचार विज्ञप्तियां बाज़ारों पर प्रभाव डालने के लिहाज़ से अलग अलग होती हैं | संयुकत राज्य अमेरिका के आर्थिक समाचार, बाज़ारों की गति को प्रभावित करते हैं क्योंकि अमेरिकी डॉलर लगभग 90 प्रतिशत मुद्रा लेन-देन का हिस्सा होते हैं |

किसी भी देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण समाचार विज्ञप्तियां उनके केंद्रीय बैंकों द्वारा जारी की गयी ब्याज़ दरें, खुदरा बिक्री, मुद्रास्फीति आंकड़े, बेरोज़गारी और औद्योगिक उत्पादन से जुड़े फ़ैसले होते हैं |  

समाचार विज्ञप्तियों को लेकर फोरेक्स बाज़ारों की शुरूआती प्रक्रिया आमतौर पर 30 मिनट से लेकर दो घंटों तक रहती है लेकिन इसके व्यापक प्रभाव कई दिनों तक रह सकते हैं |

फोरेक्स पर किन मुद्रा जोड़ियों के साथ ट्रेड करें

प्रमुख मुद्रा जोडियाँ (EUR/USD, GBP/USD, USD/JPY, USD/CHF) सबसे अधिक गतिमान होती हैं और इनके स्प्रैड्स भी मज़बूत होते हैं | इन कारणों से यह इंट्राडे समाचार विज्ञप्तियां शुरू करने के लिए अच्छा विकल्प होती हैं | उच्च अस्थिरता के समय में इनसे आपके जोखिमों को कम करने में सहायता मिलती है |

फोरेक्स ट्रेडिंग के लिए आर्थिक कैलेंडर का उपयोग

Economic Calendar

OctaFX ग्लोबल आर्थिक कैलेंडर ऑनलाइन उपलब्ध हैं जो रोजमर्रा के आर्थिक समाचार कार्यक्रमों की सूची प्रदान करते हैं  | प्रत्येक विज्ञप्ति का मूल्यांकन किया जाता है और उसको उच्च, मध्यम या निम्न प्रभाव श्रेणियों में बांटा जाता है |

इसके अलावा कैलेंडर, विश्लेषक पूर्वानुमान (अनुकूलता संख्या) और पिछली विज्ञप्ति के परिणाम की सूची प्रकाशित करता है |

फोरेक्स ट्रेडर यह देख पाते हैं कि वास्तविक आंकड़े पूर्वानुमान के स्तर को छू पाते हैं, चूकते हैं या आगे निकल जाते हैं | आमतौर पर सबसे ज्यादा अस्थिरता तब उत्पन्न होती है जब वास्तविक आंकड़ों और विश्लेषक की उम्मीदों के बीच में काफी ज्यादा फासला होता है |

अगर वास्तविक आंकड़े पूर्वानुमानों से बेहतर होते हैं तो मुद्रा का मूल्य बढ़ जाता है | अगर विज्ञप्ति अपेक्षा से भी खराब आती है तो मुद्रा का मूल्य घट जाता है |

उदाहरण के लिए, अगर विश्लेषकों को पिछले महीने की अमेरिकी बेरोज़गारी दर के 5 प्रतिशत होने की उम्मीद थी और वास्तविक आंकड़ा आया 4.8 प्रतिशत, तो यह उम्मीद से बेहतर आंकड़ा अमेरिकी डॉलर के मूल्य को बढ़ा देगा |

फोरेक्स समाचार ट्रेडिंग की रणनीतियाँ

समाचारों पर ट्रेड करने के विभिन्न दृष्टिकोण हैं | सबसे पहले तो कुछ फोरेक्स ट्रेडर आर्थिक विज्ञप्तियों के परिणामों का पूर्वानुमान लगाने की कोशिश करते हैं और इन पूर्वानुमानों के ज़रिये ट्रेड शुरू कर देते हैं |

आर्थिक आंकड़ों की भविष्वाणी करने से पहले आपको पिछली आर्थिक विज्ञप्तियों में कुछ संकेत मिल जायेंगे | उदाहरण के लिए, अमेरिकी नौकरियों के आंकड़ों का पूर्वानुमान लगाने के लिए आप PMI रिपोर्ट में से रोज़गार संबंधी आंकड़ों का उपयोग कर सकते हैं | अगर तीनो रिपोर्टों के रोज़गार संबंधी आंकड़े पिछले महीने की तुलना में बढे हैं, तो यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि नई नौकरियों की संख्या भी बढ़ी हैं |

फोरेक्स समाचार ट्रेडिंग की दूसरी रणनीति है आंकड़े जारी किये जाने तक ट्रेड शुरू करने के लिए इंतज़ार करना और इस तरह के परिदृश्य में यह जानना कि बाज़ार किस प्रकार से प्रतिक्रिया करेंगे | उदाहरण के लिए, अगर अमेरिकी खुदरा बिक्री के आंकड़ों और पूर्वानुमानित आंकड़ों में व्यापक फासला है, तो शायद आप US डॉलर में आई प्रत्याशित बढ़त के चलते EUR/USD को बेचना चाहेंगे |

फोरेक्स समाचार ट्रेडिंग की तीसरी रणनीति आधारभूत आंकड़ों को सन्दर्भ में नहीं लेती और केवल पूर्व के मूल्यों को देखती है | दूसरे शब्दों में कहें तो फोरेक्स ट्रेडर दिशात्मक झुकाव से शुरुआत नहीं करता | आम रणनीति यह है कि एंट्री स्तर के रूप में पिछली सीमा के ब्रेकआउट पर ट्रेड करना | यह अल्पावधि इंट्राडे या दैनिक आधार पर किया जा सकता है |

उदाहरण के लिए, अगर EUR/USD की पिछली सीमा 1.2530 ऊपरी और 1.2405 निचली थी, तो एक ट्रेडर 1.2530 पर खरीद विराम आदेश और 1.2405 पर बिक्री विराम आदेश लगा सकता है | यह उस उम्मीद के साथ किया जाता है कि अगर 1.2530 के ऊपर कीमतें बिखरती हैं तो यह निरंतर बढ़ता जायेगा, और इसके विपरीत अगर कीमतें 1.2405 के नीचे बिखरती हैं तो इसमें निरंतर गिरावट जारी रहेगी |

News Trading

फोरेक्स पर समाचार ट्रेड के जोखिम

क्रय-विक्रय दर का अंतर प्रमुख समाचार विज्ञप्ति के ज़ारी होने से पहले बड़ा हो जाता है | यह बाज़ार में उतरने और वहां से निकलने की लागत को बढ़ा देता है |

गिरावट एक और चुनौती है | गिरावट तब आती है जब आप एक निश्चित कीमत पर बाज़ार में उतरने की कोशिश करते हैं, लेकिन समाचार विज्ञप्ति के बाद आई अत्यधिक अस्थिरता के कारण आपको ख़राब कीमत के साथ बाज़ार में उतरना पड़ता है |

अस्थिरता भी एक मुख्य चुनौती है | आप बाज़ार की दिशा के बारे में कितने भी सही क्यों ना हों, कभी कभी परिवर्तन इतने अनियंत्रित होते हैं कि वे आपको आपकी पोजीशन से बाहर निकाल सकते हैं |

निष्कर्ष

ट्रेडर्स के लिए समाचारों में फोरेक्स ट्रेडिंग एक रोमांचक अवसर है लेकिन विज्ञप्तियों के निर्मोचन और उनके द्वारा उत्पन्न अस्थिरता को भी नकारा नहीं जा सकता | विभिन्न विज्ञप्तियों पर फोरेक्स बाज़ारों की प्रक्रिया का अध्ययन करने से आप भविष्य के पूर्वानुमानों का सही प्रकार आंकलन कर पाएंगे | इससे आपको बाज़ारों की बेहतर अंतर्दृष्टि मिल पायेगी जो आपको ट्रेड करने में सहायता प्रदान करेगी |

OctaFX फोरेक्स ट्रेडिंग टूल्स के बारे में अधिक जानें

Livechat शुरू करें