साईन इन
साईन इन
Back

जोखिम प्रबंधन

धन प्रबंधन के रूप में प्रचलित जोखिम प्रबंधन में जोखिम कम करने के लिए प्रयुक्‍त अनेक ट्रेडिंग तकनीकें आती हैं। भिन्न कारकों से प्रभावित होने पर, मुद्रा दरों में अनेक बार काफी उतार-चढ़ाव हो जाता है, इस प्रकार कीमतों में प्रतिकूल उतार-चढ़ाव के होते हुए आपके अकाउंट को सुरक्षित रखना ट्रेडिंग रणनीति का अनिवार्य हिस्‍सा है।

धन प्रबंधन की मूल अवधारणा, किसी एक ट्रेड पर निजी कोष से 1 से 2% से अधिक पैसे को जाखिम में डालने से बचना है। यह सिद्धांत जोखिम को बहुत हद तक कम कर सकता है बशर्ते आरंभिक डिपॉजिट पर केवल 1% का जोखिम हो, यहां तक कि अनेक ट्रेडों में घाटा उठाने के बाद भी काफी हद तक अकाउंट बैलेंस बनाए रखने की संभावना रहती है।

जोखिम से लाभ का अनुपात, किसी ट्रेड पर डूबने वाली राशि की तुलना में संभावित लाभ दर्शाता है। उदाहरण के लिए, जब किसी पोजीशन के लिए 300 USD के संभावित लाभ पर 100 USD का जोखिम हो, तो लाभ की तुलना में जोखिम का अनुपात 1:3 होगा।

किसी ट्रेडर के लिए 1:2 का अनुपात न्‍यूनतम माना जाता है, क्‍योंकि किसी पोजीशन का केवल तीसरा हिस्‍सा ही लाभ वाला होता है।

स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट लेवलों से संभावित लाभ और हानि को परिभाषित किया जा सकता है।

कीमत का पूर्वनिर्धारित किसी निश्चित स्तर तक पहुंचना, स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट पोजीशन क्‍लोज करने के आर्डर हैं। विभिन्न तकनीकी विश्लेषण टूल से स्‍टॉप लॉस या टेक प्रॉफिट लेवल की पहचान की जा सकती है

  • समर्थन और प्रतिरोध: छोटी पोजीशन के लिए स्‍टॉप लॉस आमतौर पर प्रतिरोध स्तर के ठीक ऊपर लगाया जाता है, जबकि बड़ी पोजीशन के लिए स्‍टॉप लॉस समर्थन स्तर से थोड़ा नीचे लगाया जाता है।
  • रूझान लाइन और चैनल: स्‍टॉप लॉस कीमत आमतौर पर रूझान लाइन के ऊपर अथवा नीचे, चैनल के बाहर लगाई जाती है।

मान लें कि आपने एक लॉट EURUSD की खरीद का आर्डर 1.12097 पर ओपन किया। 1:2 अनुपात में जोखिम से लाभ पाने के लिए स्‍टॉप लॉस लेवल 1.12077 (2 पिप्‍स) और टेक प्रॉफिट लेवल 1.12137 (4 पिप्स सेट किया जा सकता है। इस प्रकार, 40 USD हासिल करने के लिए केवल 20 USD का जोखिम उठाना होगा। अपने आरंभिक डिपॉजिट के आधार पर, इसके आगे SL/TP लेवल सेट किया जा सकता है, बशर्ते जोखिम, आपके निजी फंड से 1-2% नीचे हो।

स्‍टॉप लॉस और टेक प्रोफिट स्‍तर की पहचान कैसे करें

यह ध्यान रखना महत्‍वपूर्ण है कि प्रत्येक पिप का मूल्‍य ट्रेडिंग टूल और पोजीशन के वॉल्‍यूम पर निर्भर करता है। प्रति लॉट पिप मूल्‍य आप स्‍प्रेड और शर्त पृष्ठ पर देख सकते हैं अ‍थवा इसकी यहां इसकी गणना करें।

कीमत की चाल अनुकूल होने पर स्‍टॉप लॉस लेवल को ऑटोमैटिक रूप से समायोजित करने हेतु ट्रेलिंग स्‍टॉप का प्रयोग किया जा सकता है। जोखिम कम करने के साथ-साथ, यह पहले ही अर्जित लाभ को अंततः लॉक कर सकता है।

ध्यान रखें कि न तो स्‍टॉप लॉस और न ही टेक प्रॉफिट के बारे में कोई गारंटी दी जा सकती है: जब मार्केट में उतार-चढ़ाव होता है या किसी मूल्य अंतराल के बाद अपेक्षित मूल्‍य से आपका आर्डर निष्‍पादित हो जाएगा।

मार्केट का उतार-चढ़ाव प्रभावित करने वाली घटनाओं और संकेतकों के बारे में आप यहां और जान सकते हैं। 

Livechat शुरू करें