साईन इन
साईन इन
Back

तकनीकी विश्लेषण

तकनीकी विश्लेषण कीमतों की भविष्यवाणी करने का तरीका है जिसमें एक चार्ट पर पैटर्न की पहचान करना शामिल है। विश्लेषक समर्थन और प्रतिरोध, ब्रेकआउट और ब्रेकडाउन, प्रवृत्तियों और ट्रेडिंग सीमाओं के स्तर की पहचान करने के लिए विभिन्न टूलों को काम में लाते हैं। रणनीतियों के आधार को जानते हुए, कुछ प्रमुख सिद्धांतो को स्व-निर्मित रणनीति में लागू  करने के लिए अपने आप को खोजने की संभावना कर सकता है।

चार्ट।

चार्ट निर्धारित समयावधि में मूल्‍यों के बदलने को दर्शाने वाला ग्राफिक निरूपण है। लगभग किसी भी ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्म में आप कैंडलस्टिक, बार और लाइन चार्ट किस्‍मे पाएंगे। ये तीनों समान डेटा पर आधारित हैं परन्‍तु उन्‍हें अलग-अलग तरीकों से प्रदर्शित करती हैं।

  • लाइन चार्ट सामान्‍य और बेसिक किस्‍म का होता है जो केवल क्‍लोज कीमतें दर्शाता है।
  • बार चार्ट पर आप प्रत्‍येक समयावधि के लिए खुले, उच्‍च और कम क्‍लोज कीमतों का अवलोकन कर सकते हैं। खड़ी लाइन उच्‍च और कम कीमतों से बनाई जाती हैं, बाईं ओर के डैश खुलने वाली कीमत तथा दाईं ओर के डैश क्‍लोज कीमत दर्शाते हैं।
  • शायद सबसे लोकप्रिय किस्‍म, कैंडलस्टिक चार्ट सेट समयावधि के दौरान ओपन, उच्‍च, कम और क्‍लोज कीमते भी दर्शाते हैं। प्रत्‍येक कैंडलस्टिक ओपन और क्‍लोज कीमतों से निर्मित “बॉडी” और प्रत्‍येक अवधि के लिए उच्‍च और कम कीमतें दर्शाने वाली “विक्‍स” की बनी होती है। इस किस्‍म का चार्ट प्राय: दो रंगों में प्रदर्शित किया जाता है – एक तेजी कैंडलस्टिक का जबकि दूसरा मंदी का प्रतिनिधित्‍व करता है। तेजी कैंडलस्टिक का अर्थ है कि क्‍लोज कीमत ओपन कीमत की तुलना में उच्‍च थी जबकि मंदी केंडलस्टिक इसके विपरीत- क्‍लोज कीमत ओपन कीमत की तुलना में कम थी, का प्रतिनिधित्‍व करती है।       

फोरेक्‍स लाइन - बार - कैं‍डलस्टिक चार्टकिंतु, नोट करें कि ऊपर बताए सभी चार्ट केवल बोली कीमत ही दर्शाते हैं तथा किसी निश्चित समय पर मांगी कीमत जानने के लिए इन पर निर्भर नहीं हो सकते।

समय सीमा।

समय सीमा प्रत्‍येक कैंडल या बार से पूरे किए जाने वाले समय और उसमें शामिल डेटा सूचित करती है। उदाहरण के लिए, समय सीमा H1 एक घंटे के दौरान बोली कीमत के उतार-चढ़ाव दर्शाती है। आप अपने ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्म में प्रत्‍येक चार्ट की समय सीमा कस्‍टमाइज़ कर सकते हैं।

आम तौर पर, माना जाता है कि छोटी समय सीमाएं अधिक सिग्‍नल उत्‍पन्‍न करती हैं, किंतु  उनका महत्‍वपूर्ण भाग गलत हो सकता है। इसके विपरीत, लंबी समय सीमाएं अपेक्षाकृत कम सिग्‍नल उत्‍पन्‍न कर सकती हैं, परन्‍तु वे किसी विशेष प्रवृत्त्‍िा के लिए मजबूत और अधिक महत्वपूर्ण होंगी।

फोरेक्‍स ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्म में टाइमफ्रेम

प्रवृत्ति।  

प्रवृत्ति अथवा बाजार किस ओर घूमेगा की पहचान करना विश्लेषण की बेसिक तकनीकों में से एक है। कभी कभी इसे मात्र चार्ट पर देख कर ही निर्धारित किया जा सकता है। अन्‍य मामलों में कीमत डेटा का गहन विश्‍लेषण किया जाना अपेक्षित होगा।

बाजार की प्रवृत्तियों के दो मुख्‍य प्रकार हैं:

  • अपट्रेंड - बढ़ते उतार-चढ़ाव की श्रृंखला;
  • डाउनट्रेंड - चार्ट पर कम उतार-चढ़ाव की श्रृंखला।

किसी विशेष दिशा की कमी को साइडवे अथवा क्षैतिज प्रवृत्ति के रूप में जाना जाता है।

फोरेक्‍स ट्रेंड

प्रवृत्ति की पहचान करने के लिए, आप चार्ट पर घूमने वाली कीमतों की दिशा में केवल सीधी रेखा खींच सकते हैं। "प्रवृत्ति लाइनें" लगभग सभी ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्मों में उपलब्‍ध हैं तथा इन्‍हें बिगिनर-फ्रेंडली तकनीकी विश्लेषण टूलों में से एक माना जा सकता है। अन्‍य विकल्‍प तकनीकी इंडीकेटर हैं जिन्‍हें चार्ट में जोड़ने पर निर्धारित तथा प्रवृत्ति का प्रदर्शित किया जा सकता है।

समर्थन और प्रतिरोध।

समर्थन और प्रतिरोध लेवल का पता लगाना यह निर्धारित करने देता है कि कब और किस दिशा में पोजीशन खोली जानी चाहिए तथा संभावित लाभ या हानि क्‍या हो सकती है। समर्थन वह कीमत स्‍तर है जिस पर किसी सम्‍पत्ति को नीचे जाने में कठिनाई होती है तथा प्रतिरोध वह स्‍तर दर्शाता है जिसके ऊपर उठने में किसी जोड़ी को कठिनाई होती है। किंतु, ये स्‍तर हमेशा  बने नहीं रहते तथा प्राय: एक अथवा दूसरी दिशा में कोई "ब्रेकआउट" अथवा कोई “ब्रेकडाउन” घटित होता है।

समर्थन और प्रतिरोध स्‍तर ट्रेडिंग रेंज बनाते हैं – एक क्षैतिज कॉरिडोर जिसमें किसी समयावधि के दौरान कीमतों का उतार-चढ़ाव रहता है।

तकनीकी विश्‍लेषण: सपोर्ट और प्रतिरोध स्‍तर

प्रतिरोध के पहचान किए गए स्तर के माध्यम से कीमत गति को ब्रेकआउट के रूप में जाना जाता है। इसकी मंदी के काउंटरपार्ट को ब्रेकडाउन - समर्थन के पहचान किए गए स्तर के माध्‍यम से कीमत गति, कहते हैं। ब्रेकआउट और ब्रेकडाउन, दोनों आमतौर पर उतार-चढ़ाव में वृद्धि का पालन करते हैं।

समर्थन और प्रतिरोध की पहचान करने के लिए आप केवल स्‍तरों को अंकित करें जहां-जहां कीमतें कठिनाई से ऊपर बढ़ रही हैं और अतीत से नीचे गिर रही हैं। विभिन्‍न तकनीकी इंडीकेटर (अर्थात फिबोनाची और पिवट प्‍वांइट) स्वचालित रूप से चार्ट पर स्तरों को निर्धारित एवं आकर्षित कर सकते हैं।

चार्ट पैटर्न।

चार्ट पैटर्न विशिष्‍ट फॉर्मेशन है जो भावी कीमत गति की भविष्‍यवाणी करता है या खरीदो अथवा बेचो सिग्‍नल बनाते हैं। इसके पीछे का सिद्धांत इस भविष्‍यवाणी पर आधारित है कि पूर्व में देखे गए कुछ पैटर्न संकेत देते हैं कि कीमत इस समय किस ओर जा रही है।

 

  • हैड और शोल्‍डर्स सबसे भरोसेमंद चार्ट पैटर्नो में एक माना जाता है जो प्रतीक है कि प्रवृत्ति बदलने वाली है। पैटर्न दो प्रकार के होते हैं – हैड और शोल्‍डर्स टॉप, जो दर्शाता है कि ऊपर की गति शीघ्र समाप्‍त हो सकती है तथा हैड और शोल्‍डर्स बॉटम, जिसका अर्थ है कि नीचे जाने की प्रवृत्ति बदलने वाली है। तकनीकी विश्‍लेषण: चार्ट पैटर्न
  • दोजी(Doji) – शार्ट बॉडी (जिसका अर्थ है कि कैंडल लगभग समान कीमत पर ओपन और क्‍लोज हुई है) वाली कैंडल है तथा इसके दोनो ओर लंबी विक्‍स हें जो समयावधि के दौरान बाजार उतार-चढ़ाव दर्शाती है। दोजी कैंडल
  • दोजी आमतौर पर बाजार अनिर्णय का प्रतीक है क्‍योंकि न तो तेजी और न ही मंदी की प्रवृत्ति प्रबल है। बुलिश हैमर
  • बुलिश हैमर – एक कैंडल है जो प्राय: डाउनट्रेंड मोड़ पर होती है। इस कैंडल में बॉडी के दुगने के बराबर लंबे विक्‍स होने चाहिएं।
  • हैंगिंग मैन – बुलिश हैमर का बियरिश काउंटरपार्ट जिसकी छोटी बॉडी और लंबे विक्‍स होते हैं तथा प्राय: अपट्रेंड के परिवर्तन के पूर्व पाया जाता है।    हैंगिंग मैन
  • एक अन्‍य लोकप्रिय चार्ट पैटर्न ट्राइएंगल है। ट्राइएंगल के तीन प्रकार होते हैं: सिमिट्रिकल, असेंडिंग और डिसेंडिंग। सिमिट्रिकल ट्राइएंगल ऐसा पैटर्न है जहां दो प्रवृत्तियां लाइन बनाती हैं जो एक बिंदु पर मिलती हुई लाइन रेखा बनाती हैं तथा उनमें से कोई भी फ्लैट नहीं है। यह पैटर्न प्राय: मौजूदा प्रवृत्ति की दिशा की पुष्टि करता है। असेंडिंग टाइएंगल में, ऊपरी ट्रेंडलाइन सपाट होती है तथा निचली ट्रेंडलाइन ऊपर की ओर जाती है। इस पैटर्न को बुलिश माना जा सकता है तथा यह ब्रेकआउट. की भविष्‍यवाणी कर सकता है। डिसेंडिंग ट्राइएंगल की निचली लाइन सपाट होती है तथा ऊपरी ट्रेंडलाइन डिसेंडिंग होती है। डिसेंडिंग ट्राइएंगल बियरिश पैटर्न होता है और आगामी ब्रेकडाउन को बताता है।

इंडीकेटर।  

तकनीकी इंडीकेटर ऐसा टूल है जो प्रवृत्तियों, पैटर्न, समर्थन और प्रतिरोध स्तरों या सिग्‍नलों को खरीदने और बेचने की पूर्व सूचना अथवा पुष्टि की अनुमति देता है। यह एक सॉफ्टवेयर है जिसे विशेषरूप से आपके ट्रेडिंग प्‍लेटफॉर्म के लिए डेवलप किया गया है, जो कीमत गतियों तथा उतार-चढ़ाव के आधार पर गणना करता है। cTrader और MT4 दोनों में आसानी से उपलब्ध इंडीकेटरों की विस्तृत श्रृंखला है, परन्‍तु आप हमेशा कस्‍टम को डाउनलोड कर सकते हैं या स्‍वयं क्रिएट कर सकते हैं।

कीमत चार्ट के साथ केवल एक इंडीकेटर जोड़ना मौजूदा बाजार स्थिति के बारे में आपकी समझ को बहुत बढ़ा सकता है तथा यह निर्णय लेने में आपकी मदद करता है कि आपको किस दिशा में ट्रेडिंग करनी चाहिए। उदाहरण के लिए, समर्थन और प्रतिरोध स्‍तरों की पहचान करने के लिए, फिबोनाची और पिवट प्‍वांइट जैसे इंडीकेटर सुविधाजनक हो सकते हैं। मूमेंटम इंडीकेटर कीमत परिवर्तन की दर को मापने में आपकी मदद करेगा तथा जि़ग ज़ैग भविष्‍यवाणी करने के लिए उपयोग किया जा सकता है जब प्रवृत्ति के अधिक रिवर्स होने की संभावना हो जाएगी।

इंडीकेटर कैसे इन्‍सटॉल और कस्‍टमाइज़ किए जा सकते हैं, के बारे में और जानने के लिए कृपया हमारे मैनुअल सेक्‍शन में MT4 या cTrader पर निर्देशों को देखें। 

 
Livechat शुरू करें